Thursday, 8 November 2012

कुछ कहा कुछ अनकहा --


कुछ कहा कुछ अनकहा
---------------------------------
कल रात तुमसे ढेर सारी बातें की
कुछ कडवी यादें शेयर की ---
कुछ मीठी बातें भी --सोने तो गई
पर न जाने क्यूँ नींद नहीं आई
साढ़े तीन चार बजे तक --बस यूँ ही
मेरा मन कुछ बेचैन रहा न जाने क्यूँ
आँखे बंद थी और --मै न जाने कहाँ थी
शायेद तुम्हारे इर्द गिर्द डोलती रही मेरी रूह
मै हर उस जगह गई जहाँ कभी नहीं गई थी
तुम्हारे साथ भटकती रही --कभी तेज़ तूफ़ान में
तो कभी रेत के सहरा में ----उफ़ कैसी गुजरी थी रात
इन सारे झंझावातों में एक दुसरे को सँभालते रहे
तुम थे न साथ इसलिए अपनी परवाह न थी
पर तुम्हारी थी मुझे सँभालते सँभालते कहीं तुम
अपने पुराने घावों के सूखे टाँके न खोल बैठो
तुम्हे तो पता है मै कमजोर हूँ बहुत कमजोर
तुम्हारा उतरा चेहरा नहीं देख सकती --
मुझे तुम्हारे प्यार से ज्यादा तुम्हारी डाट प्यारी लगती है
सुबह उठते ही सोचा था आज सारी सफाई करुँगी
धूल की चादर से ढंका हुआ है दिल दिमाग
तल्ख पुरानी यादें कुछ गुज़रे कंटीले पल
जो चुभते रहते है मुझे हमेशा इन्हें हटाना है
वो जो हाथ से फिसल गए या यूँ कहो
मैने ही झटक दिए वो पल नहीं याद करना मुझे
और हाँ मुझे मेरे हिस्से का प्यार चाहिए बस
इसमें कोई गुंजाइश ही नहीं एक दुसरे पर तरस की
रूहों के रिश्तों में इसकी जगह ही कहाँ --
वो तो खुदबखुद खींच लेते हैं एक दूसरे को
वो किसी ने सच ही कहा है न ------
-----कोई पास रह के भी कभी मिला नहीं
कोई दूर रह के भी कभी जुदा नहीं ---
------बस इतना ही आज ----
------------------दिव्या ------------------------------
 

20 comments:

  1. दूरियां शायद मन के करीब होने या ना होने ज्यादा जुडी हैं ...... अर्थपूर्ण पंक्तियाँ

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद मोनिका ...सुझाव देती रहें ... लिखने का हौसला बढ़ता हैं

      Delete
  2. और हाँ मुझे मेरे हिस्से का प्यार चाहिए बस
    इसमें कोई गुंजाइश ही नहीं एक दुसरे पर तरस की
    रूहों के रिश्तों में इसकी जगह ही कहाँ --
    वो तो खुदबखुद खींच लेते हैं एक दूसरे को...........bahut khhob ....badhai

    ReplyDelete
    Replies
    1. इंदु शर्मा ..पंक्तियाँ पसंद करने के लिए ह्रदय से आभार ...

      Delete
  3. रूहों के रिश्तों में इसकी जगह ही कहाँ --
    वो तो खुदबखुद खींच लेते हैं एक दूसरे को.
    ..बहुत ही सुन्दर अहसास दिव्या ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सरस .. तुम्हारे दो शब्द भी मेरे लिए बहुमूल्य है
      बस लिखने का साहस बढ़ा देते हैं ...

      Delete
  4. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको

    ReplyDelete
    Replies
    1. मदन जी आपका ह्रदय से आभार धन्यवाद ...

      Delete
  5. Replies
    1. शुक्रिया मुकेश जी ...

      Delete
  6. आपकी रचनाओं में समंदर की तरह गहराई है।
    सुन्दर लगती हैं पढ़ने में।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय ..पढ़ते रहे और सुझाव देते रहें - आभार

      Delete
  7. बहुत ही खुबसूरत और प्यारी रचना..... भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुषमा जी ..स्वागत है आपका
      रचना पसंद आई बहुत बहुत आभार ...

      Delete
  8. Replies
    1. शुक्रिया ---ऋता शेखर मधु ....

      Delete
  9. गहरा और खूबसूरत अहसास

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आपका भावना जी

      Delete
  10. जबरदस्‍त अभिव्‍यक्ति

    !! प्रकाश पर्व की आपको अनंत शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद एवं बधाई ...सदा

      Delete