Saturday, 2 March 2013

एक लहर ने मुझे छुआ --और बोली -----


एक लहर ने मुझे छुआ --और बोली
---------------------------------------
रात्री का अंतिम पहर बीत चुका
खुली आँखों में ही सारी रात बस
यूँ ही सोती जागती रही मै --
अंतत मैने बिस्तर छोड़ ही दिया
अभी धुंधलका ही था --बाहर आई
अचानक लगा मेरे पीछे कोई और भी है
अरे ये तो मेरी अपनी ही परछाई हैं
मेरे कदम नदी तट की ओर चल पड़े
कुछ उद्वेलित कुछ शांत सी बहती नदी
जैसे मन में हलचल लिए हो मेरी ही तरह
तभी तो यही आ जाती हूँ अक्सर ही
वक्त कोई भी हो सुबह दोपहर या शाम
मै जब भी बेचैन होती यही आ जाती
एक दुसरे से बांटने अपने मनोभाव
हम दोनों की भाषा तो मौन ही है न ---
बैठ कर निहारने लगी अपनी सखी को
अथाह गहराई कही कहीं उथली भी
तेज़ प्रवाह कभी मंथर गति से बहती
जैसे मेरा मन मेरा अंतर कितनी समानता
यही समानता तो निकट लाती है हमे
अपने पाँव जल में डाल के बस
मै घाट की सीढियों बैठ गई मौन हो के
और ठीक पीछे मेरी परछाई भी
नदी का जल हौले से मेरे पाँव को
दुलरा जाता सहला जाता बार बार
मानो वो कुछ कहना चाह रही हो ---
परन्तु मै -न जाने किस सोच में डूबी थी
शायेद नदी कुछ संकेत दे रही थी पर
मै उसे समझ के भी अनदेखा करती जा रही थी
एक तेज़ लहर ने अचानक कुछ ला पटका
ठीक मेरे पांवो के पास --ओह ये तो एक शव है
प्रश्नसूचक आँखों से मुझे देखते देख
उद्वेलित सी नदी बोली कोई चारा नहीं था और
तुझे समझाने का ---ये देख ये वो लोग है
जो अंतरात्मा गहराईयों का अर्थ ही नहीं जानते
ये उथले मनों में बसते है ---वही पुष्पित पल्लवित होती हैं
उनकी कुंठाए --- फिर जलकुम्भी की भांति फैल जाती है --
स्वच्छ एवं पारदर्शी जल में ये नहीं रह पाते
ये शव उनका है जिनकी आत्माएं राख तुल्य हैं
स्फटिक सी अश्रुधारा से जिनका विसर्जन हो जाता है
एक लहर ने मुझे छुआ --और बोली
तुम लडखडा तो सकती हो परन्तु
गिर नहीं सकती कभी -------
--- कुछ सोच के मै मुस्करा दी
फिर अपनी अंजुली में जल ले उसमे स्वयं को निहारा
मानो सखी का आलिंगन किया हो --- और फिर आश्वस्त हो
चल पड़ी वापस घर ----भोर जो हो गई थी

----------------------------दिव्या शुक्ला-------------------------
2-3-2013
पेंटिग गूगल से

26 comments:

  1. लड़खड़ा कर पुनः उठ खड़ा होना होगा..

    ReplyDelete
    Replies
    1. रचना पसंद करने के लिए आभार प्रवीण जी --

      Delete
  2. उपर से शांत बहती नदी के
    अंदर लहरों की हलचल
    दिखाई नहीं देती
    सार्थक रचना.......
    साभार.........

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया मिली हार्दिक धन्यवाद --अदिति जी

      Delete
  3. भावनाओं के तल से अंतर्मन की विवेचना को लहरों के प्रतिक में बांधना बहुत अच्छा रहा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार --पवार जी

      Delete
  4. Replies
    1. वसु तुम्हारी प्रतिक्रिया मायने रखती है ---

      Delete
  5. man ko jhajhor dene wali bhawpoorn rachna hai, sach divyaji aapne sabdo ko itne satik piroya hai ki kuch kah nhi pa raha hu

    ReplyDelete
    Replies
    1. राकेश त्रिपाठी जी सुंदर प्रतिक्रिया के लिए आभार ---

      Delete
  6. -- कुछ सोच के मै मुस्करा दी
    फिर अपनी अंजुली में जल ले उसमे स्वयं को निहारा
    मानो सखी का आलिंगन किया हो --- और फिर आश्वस्त हो
    चल पड़ी वापस घर -

    ReplyDelete
    Replies
    1. गौरव बंसल हार्दिक आभार प्रतिक्रिया देने के लिए

      Delete
  7. Replies
    1. शुक्रिया रेखा शुक्ला जी ---आभार

      Delete
  8. Replies
    1. स्वागत है ब्लॉग पर उपासना जी --आभार

      Delete
  9. Replies
    1. शुक्रिया नीलिमा जी आभार ---

      Delete
  10. भाव पूर्ण सुन्दर रचना दिव्या जी !

    ReplyDelete
  11. " वियोगी होगा पहला कवि, आह से उपजा होगा गान" बेहद सुंदर
    "अथाह गहराई कही कहीं उथली भी
    तेज़ प्रवाह कभी मंथर गति "

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार विजय ---बस ब्लॉग पर आते रहें

      Delete
  12. मंगलवार 09/04/2012को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं ....
    आपके सुझावों का स्वागत है ....
    धन्यवाद .... !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. नई पुरानी हलचल के मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार विभा जी --

      Delete
  13. एक लहर ने मुझे छुआ --और बोली
    तुम लडखडा तो सकती हो परन्तु
    गिर नहीं सकती कभी -------
    --- कुछ सोच के मै मुस्करा दी
    फिर अपनी अंजुली में जल ले उसमे स्वयं को निहारा
    मानो सखी का आलिंगन किया हो --- और फिर आश्वस्त हो
    चल पड़ी वापस घर ----भोर जो हो गई थी,खूबसूरत अभिव्यक्ति...शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  14. bhaavpurn .. behad khoobsurat rachna ...

    ReplyDelete