Tuesday, 24 September 2013

सुनो !अच्छा छोड़ो तुम नहीं समझोगे




सुनो !अच्छा छोड़ो तुम नहीं समझोगे

------------------------------------

सुनो एक बात कहूँ

पता है तुम्हे अक्सर मै

काफ़ी शाप की कार्नर वाली

टेबल पर जाकर क्यूँ बैठती हूँ

वहाँ तुम होते हो न--जानती हूँ

तुम नहीं हो यहाँ कहीं पर

है तो सिर्फ एक अहसास तुम्हारे होने का

और सामने वाली चेयर खाली नहीं होती

टेबल पर रखी होती है दो कप काफी

जो अब बिना कहे रख जाता है वेटर

अब जब कि वो भी जान गया है

कोई नहीं आने वाला -----

अकेली ही कुछ देर बैठूंगी मै

एक हाथ पे चेहरा टिकाये बैठी

मै गुम होती जाती हूँ तुम्हारी यादों में

उसी तरह चुप सी पर न जाने

कितनी बातें कर जाती हूँ तुमसे

पास बैठे होते हो तुम -मेरे इर्दगिर्द

होती है एक खुशबू तुम्हारे वज़ूद की

कभी लगता है जैसे हाथों को छू लिया

तुमने ---तुम्हारी आँखों की छुअन

मुझे महसूस होती है अनजान बनी मै

न जाने क्या सोच के मुस्करा देती हूँ

फिर मै तुम्हारी चोरी पकड़ लेती हूँ

अरे यह क्या हुआ तुम्हें अचानक

तुम ने घड़ी देखी और उठ गए --

अरे हाँ तुम्हे जाना भी तो है देर हो रही है न

फ्लाइट राईट टाइम होगी -- उफ़ तुम मुड़े

और मेरे कंधे पर अपना हाथ रख दिया

आह जरा सा छू भर गया

मेरा सर तुम्हारे सीने से

पर हम चाह के भी गले नहीं लग पाये

न जाने क्यूँ --हम दोनों में शायेद

हिम्मत ही नहीं --- और फिर अधूरी रह गई

देखो न इक खूबसूरत सी ख्वाहिश

तुम्हारे सीने पर हल्के से सर रख कर

तुम्हारी धडकनों में अपना नाम सुनने की

तुम चल दिये और कोरिडोर में खड़ी मै

तुम्हें जाते हुए देख रही हूँ सोच रही हूँ

पलट कर देखोगे भी या नहीं

और अचानक तुमने पलट कर देखा

मुस्करा कर हाथ हिलाया और फिर

झटके से कार का दरवाजा खोल कर बैठ गये

एक उदास सी मुस्कान दिख ही गई

बहुत छुपाया था तुमने फिर भी

पर कोई बात नहीं -- इतना ही बहुत हैं

मै अक्सर यहीं आती हूँ कुछ देर

तुम्हारे साथ बैठने को ---

ये भी सोचती हूँ पता नहीं

तुम्हे मेरी याद आती भी होगी

या नहीं-----पर मै मुझे छोडो

मेरे साथ तो तुम न हो कर भी होते हो

जाने दो  तुम नहीं समझोगे यह सब

मेरी बात और है न ---

तभी अचानक वेटर बोला

मैम आपकी काफी ठंडी हो गई

दूसरी लाऊं ? मैने इशारे से मना किया

उदास सी मुस्कान तिर गई मेरे चेहरे पर

मै उठ कर चल दी बाहर की ओर

कभी यहाँ आती हूँ तुम्हें जीने

ख्यालों में जीने बस और कुछ नहीं

---------Divya Shukla------------

24-9-2013

चित्र --गूगल से साभार